Monday, June 14, 2021
Home Farms & Farmers प्रतिष्ठित राज्य स्तरीय "नारी शक्ति शिखर सम्मान-2021" मिला कोंडागांव की शिप्रा त्रिपाठी...

प्रतिष्ठित राज्य स्तरीय “नारी शक्ति शिखर सम्मान-2021″ मिला कोंडागांव की शिप्रा त्रिपाठी को।”

“शिप्रा त्रिपाठी को मिला शिखर-सम्मान, कोंडागांव का बढ़ाया मान”

प्रतिष्ठित राज्य स्तरीय “नारी शक्ति शिखर सम्मान-2021″ मिला कोंडागांव की शिप्रा त्रिपाठी को।”

प्रसिद्ध अलाभकारी जनसेवी संस्थान ‘संपदा’ से लंबे समय से हैं जुड़कर आदिवासी समुदाय की कर रही हैं सेवा,

कई प्रादेशिक तथा राष्ट्रीय स्तर के प्रमुख सामाजिक संगठनों के महत्वपूर्ण पदों पर भी हैं मनोनीत;

आकाशवाणी की लोकप्रिय कलाकार भी रही हैं शिप्रा,

इनके स्वरबद्ध किये गये ‘कबीर संगीत’ को मिली है बहुत सराहना।

सुर जगत में बस्तर की “स्वर कोकिला” भी कहा जाता है इन्हें।

छत्तीसगढ़ प्रदेश के सामाजिक, सांस्कृतिक, साहित्यिक व कला के क्षेत्र के अग्रणी संस्थान “वक्ता-मंच” के तत्वावधान में प्रदेश की राजधानी रायपुर में कोरोना का के सभी मापदंडों का पालन करते हुए एक गरिमामय वर्चुअल कार्यक्रम में प्रदेश की नारी शक्ति शिखर सम्मान की घोषणा करते हुए विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में सतत विशिष्ट योगदान देने वाली महिलाओं के साथ शिप्रा त्रिपाठी को यह सम्मान प्रदान किया गया। छोटे हों या बड़े अंचल में सभी की “दीदी” के नाम से मशहूर शिप्रा त्रिपाठी के द्वारा बस्तर अंचल की आदिवासी महिलाओं तथा बच्चों के स्वास्थ्य सुधार तथा आर्थिक स्वावलंबन हेतु किए गए, पिछले कई दशकों के कार्यों को रेखांकित करते हुए, उन्हें इस राज्य स्तरीय प्रतिष्ठित सम्मान हेतु चयनित किया गया।

उल्लेखनीय है कि शिप्रा त्रिपाठी के द्वारा बस्तर की आदिवासियों के बीच में बिना किसी भी बाहरी अथवा सरकारी सहायता के विगत 25 वर्षों से समर्पण भाव से सेवा कार्य में जुटी अलाभकारी समाज सेवी संस्था ‘संपदा’ तथा इसी तरह की कई सेवाभावी संस्थाओं को महिलाओं तथा बच्चों के शिक्षा, स्वालंबन तथा सुपोषण संबंधी उचित सुझाव व मार्गदर्शन निशुल्क प्रदान किया जाता रहा है। पिछले दो दशकों से गंभीर शारीरिक व्याधियों से लगातार जूझते रहने के बावजूद, इनकी जीवटता, जिजीविषा तथा सेवा भाव में कमी नहीं आई, और यह लगातार विभिन्न स्तरों पर सामाजिक कार्यों में अपना सक्रिय योगदान देते रही हैं।


ये आकाशवाणी की लोकप्रिय सुगम संगीत की कलाकार भी रही हैं। ्इनके द्वारा स्वरबद्ध किये गये कबीर संगीत को की बहुत सराहना मिली है। सुर जगत तथा कलाप्रेमियों में इन्हें बस्तर की “स्वर कोकिला” के नाम से भी जाना जाता है।
शिप्रा त्रिपाठी कई प्रादेशिक तथा राष्ट्रीय स्तर के प्रमुख सामाजिक संगठनों के महत्वपूर्ण पदों पर पदाधिकारी भी मनोनीत की गई है। इससे पूर्व इन्हें प्रतिष्ठित कबीर सम्मान, राष्ट्रीय सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले अवार्ड,छत्तीसगढ़ नारी रक्त सम्मान जैसे कई प्रतिष्ठित अवार्ड मिल चुके हैं । इस प्रतिष्ठित सम्मान हेतु शिप्रा त्रिपाठी के चयन से समाजसेवी संस्थान ‘संपदा’, मां दंतेश्वरी हर्बल समूह सहित जिले के सभी लोगों में, विशेषकर महिलाओं में हर्ष व्याप्त है।

द्वारा :-
संपदा समाजसेवी संस्थान,
www.sampda.org

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments